पेंच टाइगर रिज़र्व में फिर हुई बाघ की हुई मौत,

पेंच टाइगर रिज़र्व में फिर हुई बाघ की हुई मौत, मौत का कारण अज्ञात,
गुमतरा रेंज की थुयपेठ बीट में मिला बाघ का शव,
बाघ के सभी अंग सुरक्षित, एक महीने में दो बाघों की हुई मौत,
बाघों की मौत को लेकर पेंच प्रबंधन मौन

सिवनी:-
पेंच टाइगर रिजर्व के छिंदवाड़ा हिस्से के गुमतरा कोर एरिया के थुयेपानी बीट के कक्ष क्र. 1466 में 29 जनवरी को गश्ती के दौरान एक वयस्क नर बाघ का शव मिला है। बाघ के सभी जरूरी अंग सुरक्षित पाए गए है। अधिकारियों के मुताबिक बाघ का शव करीब 3 दिन पुराना होने की संभावना है। बाघ की मौत का कारण फिलहाल अस्पष्ट है। बाघ की मौत किस कारण से हुई है, यह फारेंसिक रिपोर्ट मिलने के बाद स्पष्ट हो सकेगा।

सिवनी पेंच टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक विक्रम सिंह परिहार ने बताया कि शुक्रवार दोपहर 1.58 बजे थुयेपानी बीट प्रभारी व श्रमिको ने एक वयस्क बाघ मृत अवस्था में गश्ती के दौरान मिला। बीट प्रभारी थुयेपानी के द्वारा तत्काल परिक्षेत्र अधिकारी गुमतरा को सूचना दी गई।

परिक्षेत्र अधिकारी द्वारा तत्काल क्षेत्र संचालक एवं उप संचालक को सूचना दूरभाष पर दी गई। तत्काल सभी अधिकारियों द्वारा मौके पर पहुंचकर स्निफर डॉग द्वारा मृत बाघ एवं उसके आसपास के घटनास्थल की जांच करायी गयी।

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के एसओपी का पालन करते हुये क्षेत्र संचालक, उप संचालक, सहायक वन संरक्षक छिन्दवाड़ा क्षेत्र एवं राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के प्रतिनिधि विक्रांत वानखेड तथा रजत ठानेकर की उपस्थिति में वन्य प्राणी चिकित्सक के द्वारा शव परीक्षण किया गया। मृत बाघ के शरीर सहित समस्त अंग (नाखून, केनाईन दांत आदि) पूर्ण रूप से सुरक्षित पाये गये। शव परीक्षण के दौरान आवश्यक अवयवों को प्रयोग शाला अन्वेषण हेतु सेम्पल के रूप मे सुरक्षित कर मृत बाघ को पूर्ण रूप से जलाकर नष्ट किया गया। मृत बाघ की उम्र करीब 12 साल बताई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *