रामविलास पासवान का लंबी बीमारी के बाद निधन

केंद्रीय मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान का निधन हो गया. रामविलास पासवान कई दिनों से बीमार चल रहे थे. लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. चिराग पासवान ने अपने ट्वीट में इमोशनल पोस्ट लिखा, पापा, अब आप इस दुनिया में नहीं हैं. लेकिन, मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं.

लंबे समय से चल रहे थे बीमार
रामविलास पासवान लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उन्होंने राजनीति में एक लंबा समय बिताया है। रामविलास पासवान वीपी सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्रकुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी इन सभी प्रधानमंत्रियों के ‘कैबिनेट’ में अपनी जगह बनाने वाले शायद एकमात्र व्यक्ति थे। लोक जनशक्ति पार्टी के 74 वर्षीय संरक्षक रामविलास पासवान का कुछ दिन पहले एक अस्पताल में हृदय का ऑपरेशन हुआ था. वह पांच दशक से अधिक समय से सक्रिय राजनीति में थे और देश के जाने-माने दलित नेताओं में से एक थे. रामविलास पासवान उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मामलों के मंत्री थे. विधानसभा चुनाव से ठीक पहले केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन की खबर फैलते ही बिहार में शोक की लहर छा गयी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि रामविलास पासवान कड़ी मेहनत के बल पर राजनीति में ऊपर आये थे. आपातकाल के दौरान उन्होंने निरंकुशता और हमारे लोकतंत्र पर प्रहार का विरोध किया था.राजद प्रमुख एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने ट्वीट कर रामविलास पासवान के निधन पर गहरी संवेदना प्रकट की है. लालू प्रसाद ने ट्वीट कर लिखा है, रामविलास भाई के असामयिक निधन का दुःखद समाचार सुन अति मर्माहत हूं. विगत 45 वर्षों का अटूट रिश्ता और उनके संग लड़ी तमाम सामाजिक, राजनीतिक लड़ाइयां आंखों में तैर रही है. रामविलास भाई, आप जल्दी चले गये. इससे ज्यादा कुछ कहने की स्थिति में नहीं हूं. ॐ शांति ॐ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *